कार्तिक पूर्णिमा 2018 : कार्तिक महीने का महत्व, विधि-विधान और कथा

कार्तिक पूर्णिमा 2018 : कार्तिक महीने का महत्व, विधि-विधान और कथा कार्तिक मास बहुत पुण्य प्रदान करने वाला मास है। इस माह की पूर्णिमा भी विशेष पुण्य प्रदान करने वाली है। इस वर्ष दिनांक 23 नवम्बर [...]

Read More

अक्षय नवमी : श्रीहंस सनकादि जयन्ती और श्री सर्वेश्वर प्रभु का प्राकट्य दिवस

अक्षय नवमी : श्रीहंस सनकादि जयन्ती और श्री सर्वेश्वर प्रभु का प्राकट्य दिवस श्रीहंस भगवान अनन्तकोटि ब्रह्माण्डनायक, करुणावरुणालय, सर्वान्तर्यामी, सर्वशक्तिमान, सर्वाधार श्रीहरि के मुख्य 24 [...]

Read More

देवोत्थान एकादशी/देवशयनी एकादशी : परमात्मा और आत्मा के मिलन का पर्व

देवोत्थान एकादशी : परमात्मा और आत्मा के मिलन का पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष एकादशी (19 नवंबर) सनातन धर्म में एक ऐसे महापर्व का दिन है जब हमारी आत्मा परमात्मा रुपी मूल उर्जा से एकाकार हो सकती है। जहां [...]

Read More

छठ पूजा तिथि और मुहूर्त और महत्व : सूर्य देव का महात्यौहार

छठ पूजा तिथि और मुहूर्त और महत्व : सूर्य देव का महात्यौहार इस बार छठ पर्व पर कई दुर्लभ शुभ संयोग बन रहे हैं जो शुभ फलदायी और समृद्धिदायक हैं। रविवार भगवान सूर्य का दिन माना जाता है इस दिन से छठ [...]

Read More

छठ की व्रती महिलाएं क्यों लगाती हैं लंबा सिंदूर ?

छठ की व्रती महिलाएं क्यों लगाती हैं लंबा सिंदूर ? छठ पूजा में सुहाग की रक्षा के लिए स्त्रियां बड़ी निष्ठा और तपस्या से व्रत रखती हैं। सिंदूर और सुहाग का रिश्ते के बारे में हम सभी को पता है. फेरों [...]

Read More

गोवर्धन उत्सव : ‘अन्नकूट पूजा’ और श्रीकृष्ण पूजा का दिन

गोवर्धन उत्सव : ‘अन्नकूट पूजा’ और श्रीकृष्ण पूजा का दिन हमारे देश भारत में हिन्दू पंचांगों के अनुसार कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा को गोवर्धन उत्सव मनाया जाता है। गोवर्धन को [...]

Read More

दीपावली का पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व

दीपावली का पौराणिक और ऐतिहासिक महत्व दीपावली से जुड़े अनेक रोचक तथ्य है, जो इतिहास के पन्नों में अपना विशेष स्थान बना चुके हैं। इस पर्व का अपना ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व भी है, जिस कारण यह [...]

Read More

Diwali : दीपावली पर गणेश और लक्ष्मी की पूजा क्यों ?

Diwali : दीपावली पर गणेश और लक्ष्मी की पूजा क्यों ? भले ही दीपावली के बारे में सबकुछ भगवान राम से संबंधित है मगर दीपावली की शाम को भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की पूजा करने का विशेष महत्व होता है [...]

Read More

विजयादशमी से जुड़ी कथाएं

विजयादशमी से जुड़ी कथाएं पौराणिक कथाओं के अनुसार जब श्रीराम 14 वर्षों के वनवास में अपना जीवन यापन कर रहे थे तो लंकापति रावण ने उनकी पत्नी माता सीता का अपहरण कर उन्हें लंका की अशोक वाटिका में बंदी [...]

Read More

देवी दुर्गा हैं परम ब्रह्मा के समान

देवी दुर्गा हैं परम ब्रह्मा के समान परम ब्रह्मा हैं देवी दुर्गा देवी मां दुर्गा हिन्दुओं की प्रमुख देवी हैं जिन्हें शक्ति भी कहते हैं। शाक्त सम्प्रदाय की ये मुख्य देवी हैं जिनकी तुलना परम ब्रह्मा [...]

Read More

संसार की जननी “मां तारा”

संसार की जननी “मां तारा” सृष्टि की जननी, पालन करने वाली और उसका संहार करने वाली आद्या शक्ति मां काली जब अब अपने क्रियात्मक शक्ति के स्वरुप में आती हैं तब पंच तत्वों से इस संसार का [...]

Read More

काल निर्णय करने वाली “मां काली”

काल निर्णय करने वाली “मां काली” विज्ञान और सनातन धर्म दोनों में ही काल अर्थात टाइम को बहुत महत्ता दी गई है। अलबर्ट आइंस्टिन ने जहां टाइम को ब्रम्हांड को नियंत्रित करने वाली एक सत्ता [...]

Read More

योगमाया – विष्णु को मोहित करने वाली महाशक्ति

योगमाया – विष्णु को मोहित करने वाली महाशक्ति हमने अक्सर ये कथा सुनी है कि भगवान श्री हरि विष्णु क्षीर सागर मे निद्रा में मग्न रहते हैं। तो फिर प्रश्न यही उठता है कि जगत के पालनहार जब निद्रा [...]

Read More

पुराणों में कितने प्रकार के श्राद्ध का वर्णन ?

पुराणों में कितने प्रकार के श्राद्ध का वर्णन ? सदगुरुश्री अपनी जड़ों को शक्ति प्रदान करने  का काल है पितृपक्ष वक नहीं बारह प्रकार से हो सकता है श्राद्ध पितृपक्ष जो सामान्य जन में श्राद्ध के काल [...]

Read More

जानिए गणेश चतुर्थी महोत्सव की उत्पत्ति और इतिहास

जानिए गणेश चतुर्थी महोत्सव की उत्पत्ति और इतिहास गणेश चतुर्थी के त्यौहार पर पूजा प्रारंभ होने की सही तारीख किसी को ज्ञात नहीं है, हालांकि इतिहास के अनुसार, यह अनुमान लगाया गया है कि गणेश चतुर्थी [...]

Read More

क्या है गणेश चतुर्थी महोत्सव की पौराणिक कथाएँ 

क्या है गणेश चतुर्थी महोत्सव की पौराणिक कथाएँ  गणेश चतुर्थी हिंदुओं का एक पारंपरिक और सांस्कृतिक त्यौहार है। यह भगवान गणेश की पूजा, आदर और सम्मान करने के लिए मनाया जाता है। भगवान गणेश देवी [...]

Read More

भगवान श्री कृष्ण : पूरा जीवन : 125 वर्षों का महाजीवन

भगवान श्री कृष्ण : पूरा जीवन : 125 वर्षों का महाजीवन भगवान श्री कृष्ण को अलग अलग स्थानों में अलग अलग नामो से जाना जाता हैं। * उत्तर प्रदेश में कृष्ण या गोपाल-गोविन्द इत्यादि नामों से जानते हैं। * [...]

Read More

आखिर कौन हैं श्रीकृष्ण ? 

आखिर कौन हैं श्रीकृष्ण ?  मेरे लिए कृष्ण एक महानायक हैं…वो हर विचारधारा में समाहित हैं…कृष्ण के जीवन के उदाहरणों को देखिए….  कृष्ण से बड़ा आंदोलनकारी कौन होगा… वो अवतार [...]

Read More

कृष्ण जन्माष्टमी : भगवान कृष्ण की सबसे अनूठी लीलाएं

कृष्ण जन्माष्टमी : भगवान कृष्ण की सबसे अनूठी लीलाएं भगवान कृष्ण का पूरा जीवन ही लीला है, पर हमने उनकी 8 अनूठी लीलाएं चुनने का फैसला किया। आइये जानते हैं इन लीलाओं की मिठास साभार [...]

Read More

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2018 : शुभ मुहूर्त और व्रत के पारण का समय

श्री कृष्ण जन्माष्टमी 2018 : शुभ मुहूर्त और व्रत के पारण का समय श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2018 इस वर्ष 2 सितंबर 2018, रविवार को मनाई जाएगी। श्री कृष्ण जन्माष्टमी, हिन्दू धर्म में मनाए जाने वाले [...]

Read More

हरियाली तीज : शिव और पार्वती का पर्व : मुहूर्त और पूजा विधि

हरियाली तीज : शिव और पार्वती का पर्व : मुहूर्त और पूजा विधि श्रावण में शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरियाली तीज की परंपरा निभाई जाती है। इस साल यह तीज 13 अगस्त 2018 को आ रही है। ये तीज शिव और पार्वती [...]

Read More

श्रावण में रूद्राभिषेक के लाभ

श्रावण में रूद्राभिषेक के लाभ हमारे धार्मिक ग्रंथों में देवाधिदेव भगवान शिव को दुखों का नाश करने वाला देवता भी बताया गया है। लघु रूद्र पूजा का सामान्य सा अर्थ यही होता है कि शिव की ऐसी पूजा जो [...]

Read More

महामाया की जागृति का महापर्व देवशयनी एकादशी

महामाया की जागृति का महापर्व देवशयनी एकादशी आषाढ़ शुक्ल पक्ष एकादशी (23 जुलाई) एक ऐसा दिन है जब संसार श्री हरि विष्णु को भी महामाया विमोहित कर संसार का पालन कार्य अपने हाथों में ले लेती हैं। वैसे [...]

Read More

जगन्नाथ रथयात्रा विशेष:  कथा जगन्नाथ रथ यात्रा की

जगन्नाथ रथयात्रा विशेष:  कथा जगन्नाथ रथ यात्रा की लगभग 5000 वर्ष पूर्व द्वापर युग में लीला पुरुषोत्तम भगवान श्री कृष्ण जब वृंदावन त्याग कर द्वारिका नगरी में अपनी पत्नियों संग निवास कर रहे थे, तभी [...]

Read More

धर्म की जय हो, अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भावना हो…

धर्म की जय हो , अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भावना हो… धर्म की जय हो , अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भावना हो… कुछ इसी विचार को लेकर रिलिजन वर्ल्ड ने आज से एक साल पहले अपनी [...]

Read More

रिलिजन वर्ल्ड प्रथम वर्षगाँठ विशेष: जो अहिंसा से युक्त हो वही धर्म है – भीष्म पितामाह 

रिलिजन वर्ल्ड प्रथम वर्षगाँठ विशेष: जो अहिंसा से युक्त हो वही धर्म है- भीष्म पितामाह  अपनी बात रखने से पहले एक महाभारत कालीन युधिष्ठिर और भीष्म पितामाह के बीच का संवाद बताना चाहती हूँ – जब [...]

Read More