हरिद्वार में गंगा की हुई वृहत सफाई

 In Hinduism

हरिद्वार में सप्तऋषि क्षेत्र से जटवाडा पुल तक गंगा तटों की हुई वृहत सफाई

हरिद्वार  23 अप्रैल। गंगा मैया  के अवतरण दिवस  के मौके पर गायत्री परिवार  के करीब ढाई लाख  स्वयंसेवक  गोमुख से गंगासागर के प्रमुख तटों एवं विभिन्न जलस्त्रोतों पर वृहत स्तर पर सफाईअभियान चलाया।वहीं हरिद्वार में सप्तऋषि क्षेत्र से लेकर जटवाड़ा पुल तक करीब 20 किमी की दूरी पर शांतिकुंज परिवार, देसंविवि परिवार, गायत्री विद्यापीठ, युग निर्माणस्काउट गाइड, हरिद्वार नागरिक मंच, महामना सेवा संस्थान, देवभूमि पूर्व सैनिक मंच, सेवा भारती, भारत लोक सेवा संस्थान, हरिद्वार पुलिस सहित शहर के हजारों स्वयंसेवकोंने गंगा घाटों की सफाई में जमकर पसीना बहाया। इस दौरान कई टन कूड़ा-कचरा  इकट्ठा किया गया,  जिसे निस्तारण  के लिए ज्वालापुर  स्थित  सराय में पहुँचाया  गया।

सफाई अभियान के अवसर पर रोड़ी बेलवाला परिसर में आयोजित संगोष्ठी को संबोधित करते हुए गायत्री परिवार प्रमुख डा. प्रणव पंडया ने कहा कि गंगा हमारी संस्कृतिको जोड़ती है। गंगा भारत की पहचान है।इसे स्वच्छ व निर्मल रखना हम सबका नैतिक दायित्व है। इसके लिए सफाई के साथ-साथ जन जागरण आवश्यक है।हरिद्वार के अनेकसंगठनों ने गायत्री परिवार के इस महत्वाकांक्षी योजना के साथ काम करने के लिए हाथ बढाया है, यह एक उचित कदम है।हम सब मिलकर आगामी कुछ वर्षों में हरिद्वार की गरिमा को और अधिक  बढ़ाने की दिशा  में  काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि गोमुख से गंगा सागर तक गंगा को प्रतीकात्मक रूप से साफ करने का मुख्य मकसद है  लोगों को  जागरुक  करना। एसएसपी कृष्ण कुमार वीके ने कहा कि मैं तो यहाँ सीखने व ज्ञान प्राप्त करने के लिए आया हूँ।गायत्री परिवार के रचनात्मककार्यों में हमारा पूरा सहयोग रहेगा।डॉ. पण्ड्या  व एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके  ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ सुभाष घाट पर गंगा आरती कर सफाई अभियान की शुरुआत की।              शांतिकुंज, देसंविवि के करीब दो हजार स्वयंसेवकों ने सीसीआर टॉवर से लेकर ललतारौ पुल के घाटों पर जमकर पसीना बहाया। इसमें 3 वर्ष की बच्ची से लेकर 85 सालके कार्यकर्त्ता शामिल रहे। हरिद्वार पुलिस के 55 जवानों, देसंविवि के विद्यार्थियों, एनएसएस के स्वयंसेवियों, युग निर्माण स्काउट गाइड सहित अनेक संस्थानों के नर-नारियों ने झाड़ू, फावड़ा आदि से कूड़ा-कचरा साफ कर ट्रेक्टर ट्रॉलियों में एकत्रित किये,  जिसे निस्तारण के लिए  ज्वालापुर स्थित सराय पहुँचाया गया। तेज धूप  के बावजूद स्वयंसेवियों के चेहरे पर जबरदस्त उत्साह था।

अभियान में छत्तीसगढ़, मप्र, उप्र, बिहार, झारखंड, ओडिशा, गुजरात, दिल्ली आदि प्रांतों से शांतिकुंज में साधना करने आये साधकों ने भी घाटों की सफाई में उत्साहपूर्वक भाग लिया।

      सफाई अभियान के समन्वयक श्री केदार प्रसाद दूबे ने बताया कि महामना सेवा संस्थान, बडोलाजी वेलफेयर फाउण्डेशन, देवभूमि पूर्व सैनिक संगठन, हरिद्वार नागरिकमंच, एसएमजेएन कॉलेज परिवार, सेवा भारती, मुस्कान फाउंडेशन, धर्मयात्रा महासंघ, राष्ट्रीय मानवाधिकार संरक्षण समिति, जयराम आश्रम सहित शहर के 43 संस्थानों ने गायत्रीपरिवार के साथ मिलकर सफाई अभियान में बढ़-चढ़कर भागीदारी की। उन्होंने बताया कि गोमुख से लेकर गंगसागर तक पाँच सौ से  अधिक गंगाघाटों, विभिन्न जलस्त्रोतों में देशभर के ढाई लाख से अधिक स्वयंसेवकों ने एक साथ एक समय में सफाई  अभियान चलाया।

इस अवसर पर एसएसपी श्री कृष्ण कुमार वीके,  सीओ (यातायात) श्री वीरेन्द्र डबराल,  वरिष्ठ सामाजिक कार्यकर्त्ता  श्री जगदीश लाल पाहवा,  शांतिकुंज के वरिष्ठ कार्यकर्त्ता श्री केसरी कपिल,  डॉ. ओपी शर्मा, डॉ. बृजमोहन गौड़,  श्री रामसहाय शुक्ल सहित  कई प्रशासनिक अधिकारी व शहर के गणमान्य नागरिक व पत्रकारगण मौजूद रहे।

Recommended Posts
Contact Us

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Start typing and press Enter to search