कैसे रहेंगें वर्ष 2019 के ग्रह गोचर ?

 In Astrology

कैसे रहेंगें वर्ष 2019 के ग्रह गोचर ?

वर्ष 2019 व हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से विक्रम संवत 2076 (परिधावी संवत्सर) के राजा शनि हैं जबकि मंत्री सूर्य। दुर्गेश भी शनि हैं जबकि धनेश मंगल हैं। जबकि मंत्री सूर्य के होने से राजनीति में आरोप-प्रत्यारोप का दौर वर्ष भर रहेगा। सूर्य के मंत्री होने से राजनीतिज्ञों का अमर्यादित व्यवहार रहेगा। इस वर्ष पानी की कमी होने से लोग पलायन करेंगे।पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार 2019 की शुरुआत शुक्र और सूर्य के गोचर से होगी, जिसकी वजह से सुख और समृद्धि दोनों के मार्ग खुलेंगे।

भारतीय वैदिक ज्योतिष के मुताबिक 12 राशियां होती है। इन 12 राशियों पर पड़ने वाली ग्रह दशा के अनुसार ही किसी भी जातक का भविष्य या वर्तमान में चल रही उथल पुथल का पता लगाया जा सकता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मानी जाने वाली सभी 12 राशियों के स्वामी इन 9 ग्रहों में से ही होते हैं। सूर्य व चंद्रमा एक एक राशि तो मंगल, शुक्र, बुध, गुरु व शनि दो-दो राशियों के स्वामी माने जाते हैं। मेष व वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल हैं तो वृषभ व तुला के स्वामी शुक्र। मिथुन व कन्या राशि का प्रतिनिधत्व बुध करते हैं तो कर्क राशि के स्वामी चंद्रमा हैं और सूर्य सिंह राशि के स्वामी हैं। धनु व मीन राशि गुरु की राशियां हैं तो मकर व कुंभ के स्वामी न्याय के देवता शनि माने जाते हैं। राहू-केतु को छाया ग्रह माना जाता है और किसी भी राशि के स्वामी ये नहीं माने जाते। जातक की राशि व राशि स्वामी की स्थिति के अनुसार ही जातक का व्यक्तित्व भी निर्धारित होता है। जैसे-जैसे जातक की कुंडली में ग्रहों की दशा में परिवर्तन आता है उसी प्रकार उनके सकारात्मक व नकारात्मक प्रभाव भी जातक पर पड़ते हैं। इसलिये ग्रहों की चाल, ग्रहों के गोचर या कहें ग्रहों के राशि परिवर्तन का व्यापक प्रभाव समस्त राशियों पर पड़ता है।

भारतीय हिन्दू ज्योतिष में कर्म की प्रधानता के साथ-साथ ग्रह गोचर और नक्षत्रों के प्रभाव को भी मनुष्य की भाग्य उन्नति के लिए जिम्मेदार माना जाता है। नवग्रह में सूर्य और चंद्रमा भी आते हैं इसलिए सूर्य और चंद्र ग्रहण का महत्व बढ़ जाता है।

इस वर्ष 2019 में दो चंद्र ग्रहण होंगे। चंद्र ग्रहण भारतीय ज्योतिष शास्त्र में एक महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है। पूर्णिमा की रात्रि में चंद्र ग्रहण के घटित होने से प्रकृति और मानव जीवन में कई बदलाव देखने को मिलते हैं। ये परिवर्तन अच्छे और बुरे दोनों प्रकार के हो सकते हैं। जिस तरह चंद्रमा के प्रभाव से समुद्र में ज्वार भाटा आता है, ठीक उसी प्रकार चंद्र ग्रहण की वजह से मानव समुदाय प्रभावित होता है।

पूर्ण चंद्र ग्रहण 21 जनवरी 2019 08:07:34 से 13:07:03 बजे तक 

यह चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, इसलिए यहां पर इसका धार्मिक महत्व और सूतक मान्य नहीं होगा।

चंद्र ग्रहण पुष्य नक्षत्र और कर्क राशि में लगेगा, इसलिए इस राशि और नक्षत्र से संबंधित लोग इस चंद्र ग्रहण से प्रभावित होंगे।

चंद्र ग्रहण के बुरे असर को कम करने के लिए कर्क राशि और पुष्य नक्षत्र में जन्में लोगों को सावधानी बरतनी होगी।

वर्ष 2019 के राजा हैं शनि, सूर्य मंत्री 

ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री ने पंचागों के हवाले से बताया कि वर्ष 2019 व हिन्दू कैलेंडर के हिसाब से विक्रम संवत 2076 (परिधावी संवत्सर) के राजा शनि हैं जबकि मंत्री सूर्य। दुर्गेश भी शनि हैं जबकि धनेश मंगल हैं।

मंगल का विशेष संयोग बना है 2019 में

वर्ष 2019 में मंगलवार का विशेष संयोग बन रहा है। नए वर्ष की शुरुआत मंगलवार से हो रही है। वहीं नए वर्ष का समापन भी मंगलवार को होगा।

जैमिनी और केदार योग में हुआ नए वर्ष 2019 का आगमन

ज्योतिषी पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार नव वर्ष 2019 की शुरुआत जैमिनी और केदार योग में हो चुकी है। शुक्र व चंद्रमा के एक साथ रहने से जैमिनी योग बना है जबकि सभी ग्रहों का चार स्थानों पर रहने से केदार योग का संयोग बन रहा है।

नए साल की शुरुआत सूर्यग्रहण से होगी

ज्योतिर्विद पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार नए वर्ष की शुरुआत सूर्य ग्रहण से हो चुकी है दूसरा सूर्य ग्रहण 2 एवं 3 जुलाई के मध्य है।

यह दोनों ही सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं पड़ेंगे। तीसरा सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर को लगेगा जो भारत में दिखेगा। नए साल में पहला चंद्र ग्रहण 21 जनवरी को लगेगा। दूसरा चंद्र ग्रहण 16 जुलाई 2019 एवं 17 जुलाई 2019 मध्यांतर में लगेगा यह भारत में भी दिखेगा।

कैसा रहेगा नए वर्ष में सभी क्षेत्रों पर असर

ज्योतिषी दयानन्द शास्त्री के अनुसार नये वर्ष में केंद में सत्ता के भागीदारों के बीच वैचारिक मतभेद उभरेंगे। पर गुरु के सप्तम भाव में रहने से ये मतभेद सुलझ जाएंगे। वहीं प्रोपर्टी ओर रियल इस्टेट के बिजनेस में काफी उछाल आयेगा। हमारी लोकतांत्रिक प्रणालियों में सुधार होगा।

देश में मनोरंजन(टेलीविजन ओर सिनेमा) एवम तकनीकी के क्षेत्र में काफी प्रगति होगी। विश्व मे भारत की छवि और बेहतर होगी। हर क्षेत्र में भारत के लिए 2019 में बेहतर भविष्य दिखाई दे रहा है।

नए वर्ष में कई ग्रह होंगे वक्री और मार्गी

ज्योतिषशाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार नए साल में गुरु 10 अप्रैल को वक्री होंगे और मार्गी होंगे 11 अगस्त को। इसी तरह शनि 30 अप्रैल को वक्री और मार्गी होंगे 18 सितंबर को l बुध 5 मार्च को वक्री होंगे। पूरे वर्ष में बुध तीन बार वक्री होंगे और तीन बार मार्गी होंगे।

कई राशियों का होगा परिवर्तन

नए वर्ष में कई ग्रहों का राशि परिवर्तन होगा। शनि का राशि परिवर्तन 30 साल बाद धनु में होगा।

पण्डित दयानन्द शास्त्री ने बताया कि शनि इससे पहले 18 दिसंबर 1987 को धनु राशि में थे अगली बार 8 दिसंबर 2046 को धनु राशि में आएंगे।

वृहस्पति ग्रह वृश्चिक राशि से धनु में 29 मार्च को प्रवेश करेंगे। राहु का गोचर परिवर्तन कर्क से मिथुन राशि में 7 मार्च को होगा और केतु धनु में प्रवेश करेंगे।

शनि के 1 मई 2019 तक मार्गी रहने से एवं सीधी चाल रहने से कई राशियों को फायदा मिलेगा। गुरु का स्थान परिवर्तन होने से देश की स्थिति काफी मजबूत होगी।

जानिए विभिन्न राशियों के लिए नया वर्ष 2019 कैसा रहेगा ?

मेष: आर्थिक उन्नति,पारिवारिक व सामाजिक स्थिति मध्यम

वृषभ: लाभप्रद स्थिति, भाग्य साथ देगा

मिथुन: मांगलिक कार्य, अनुकूल स्थिति

कर्क: आर्थिक राहत, भूमि-वाहन योग

सिंह: प्रतिष्ठा में वृद्धि, संतान पक्ष को सफलता

कन्या: मांगलिक कार्य

तुला: धार्मिक-सामाजिक सक्रियता बढ़ेगी

वृश्चिक: व्यापार विस्तार,लक्ष्य प्राप्ति

धनु: स्थान परिवर्तन, अनुकूल स्थिति

मकर: आर्थिक उन्नति, संतानप्राप्ति

कुंभ: मनोरथ पूरे होंगे. प्रमोशन

मीन: भाग्य का पूरा साथ, संतान प्राप्ति

आकाश में विचरण करने वाले ग्रह, नक्षत्र और सितारे हमेशा से मानव जीवन को प्रभावित करते आये हैं।

हिन्दू वैदिक ज्योतिष में कर्म की प्रधानता के साथ-साथ ग्रह गोचर और नक्षत्रों के प्रभाव को भी मनुष्य की भाग्य उन्नति के लिए जिम्मेदार माना जाता है। नवग्रह में सूर्य और चंद्रमा भी आते हैं इसलिए सूर्य और चंद्र ग्रहण का महत्व बढ़ जाता है।

चंद्र ग्रहण भारत में 2019 में दो बार होगा जिसके प्रभाव कुछ राशियों पर पड़ने हैं। नए साल 2019 की शुरुआत में ही चंद्र और सूर्य दोनों ग्रहण होने हैं।

21 जनवरी 2019 सोमवार के दिन पड़ रहा है। एक तरफ लोगों में नए साल 2019 के आने की खुशी तो है पर वह साल के त्यौहार की भी खुशी होगी। ऐसे में दूसरी ओर साल 2019 में चंद्र ग्रहण के अशुभ योग भी बन रहे हैं। 26 दिसंबर 2019 को साल का तीसरा और अंतिम सूर्य ग्रहण दिखाई देगा।

इस साल 2019 में दो चंद्र ग्रहण होंगे

चंद्र ग्रहण भारतीय ज्योतिष शास्त्र में एक महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है। पूर्णिमा की रात्रि में चंद्र ग्रहण के घटित होने से प्रकृति और मानव जीवन में कई बदलाव देखने को मिलते हैं। ये परिवर्तन अच्छे और बुरे दोनों प्रकार के हो सकते हैं। जिस तरह चंद्रमा के प्रभाव से समुद्र में ज्वार भाटा आता है, ठीक उसी प्रकार चंद्र ग्रहण की वजह से मानव समुदाय प्रभावित होता है।

पूर्ण चंद्र ग्रहण 21 जनवरी 2019 08:07:34 से 13:07:03 बजे तक ;यह चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, इसलिए यहां पर इसका धार्मिक महत्व और सूतक मान्य नहीं होगा।

चंद्र ग्रहण पुष्य नक्षत्र और कर्क राशि में लगेगा, इसलिए इस राशि और नक्षत्र से संबंधित लोग इस चंद्र ग्रहण से प्रभावित होंगे। चंद्र ग्रहण के बुरे असर को कम करने के लिए कर्क राशि और पुष्य नक्षत्र में जन्में लोगों को सावधानी बरतनी होगी।

=====================

लेख – ज्योतिषाचार्य दयानंद शास्त्री, उज्जैन

वाट्सएप – 07000395414

Recommended Posts
Contact Us

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Not readable? Change text. captcha txt

Start typing and press Enter to search