“Swachhata Hi Seva” : Massive Clean Up from Laxman Jhula to Ram Jhula, Rishikesh

 In Hinduism, Saints and Service

“Swachhata Hi Seva” : Massive Clean Up from Laxman Jhula to Ram Jhula, Rishikesh

ऋषिकेश, 25 सितम्बर। श्री दीनदयाल उपाध्याय एकात्मकता दिवस के परिपेक्ष में परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष, ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस के सह-संस्थापक एवं गंगा एक्शन परिवार के प्रणेता पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज के मार्गदर्शन एवं सानिध्य में पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय भारत सरकार, नमामि गंगे, राज्य सरकार, नगरपालिका, नगर पंचायत, स्थानीय नेतागण, समाज, संस्थान, शिक्षण संस्थान, विभिन्न धर्मों के धर्मगुरू और ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस ने मिलकर हजारों की संख्या में आये स्वच्छता प्रेमी भाई-बहनों ने स्वच्छता नारों, गीतों एवं पपेट शो के साथ लक्ष्मण झूला से राम झूला तक स्वच्छता कार्यक्रम सम्पन्न किया।

इस स्वच्छता अभियान में विधिवत लक्ष्मणझूला से रामझूला, वानप्रस्थ तक के क्षेत्र को सात सेक्टर में विभाजित कर हजारों की संख्या में आये स्वयंसेवियों को पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने ’स्वच्छता ही सेवा है’ का संकल्प कराया तत्पश्चात सभी स्वयंसेवक पूरे क्षेत्र को स्वच्छ एवं निर्मल बनाने में जुट गये। पूज्य स्वामी जी के साथ विभिन्न धर्मों के धर्मगुरूओं, धर्म प्रेमियों एवं देश प्रेमियों ने सभी का उत्साहवर्धन करते हुये माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रभावशाली उद्बोधनों को सुनाते हुये छात्रों में नई ऊर्जा का संचार किया। इस स्वच्छता अभियान में पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज, गंगा नमामि के निदेशक श्री राधव लंगर, एसएसपी-पौडी श्री जगतराम जोशी, एसडीएम-नरेन्द्रनगर, श्री लक्ष्मीराज चैहान, एसडीएम – पौडी, श्री राकेश तिवारी, एसएसपी-टिहरी श्री बलजेन्द्र सिंह, केन्द्र एवं राज्य से आये अधिकारीगण, अनेक विदेशी साधक एवं अनेेक गणमान्य लोगों ने सहभाग किया।

स्कूली छात्रों को स्वच्छता अभियान में शामिल करने का उद्देश्य है कि स्वच्छता को शिक्षण का अभिन्न अंग बनाना ताकि स्वच्छता का समावेश नियम बनकर नहीं बल्कि आचरण बनकर जीवन में समाहित हो। भारत के स्वच्छता परिदृश्य को देखे तो आज भी परिणाम आशाजनक नहीं है। भारत के ऊर्जावान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने देशवासियों को स्वच्छता के प्रति प्रतिबद्ध करने के लिये; उन्हे झकझोरने के लिये; भारत माता के प्रति अपनी भक्ति और कर्तव्य को याद दिलाते हुये वंदे मातरम् कहने के हक की बात कही, माँ गंगा में स्नान करने वाले को गंगा सफाई की याद दिलायी। उन्होने कहा था कि स्वच्छ गंगा हमारी बडी आबादी के जीवन में आर्थिक बदलाव ला सकती है। यह हम भारतवासियाों का सौभाग्य है कि महात्मा गांधी जी के बाद कोई तो है जो स्वच्छता को लिये प्रतिबद्ध है और दूसरों को भी इसके लिये निरन्तर प्रेरित कर रहा है। श्री मोदी जी के सपनों को साकार करते हुये 2019 में महात्मा गांधी जी की 150 वीं जंयती पर स्वच्छ भारत की श्रद्धांजलि भेंट करें। पूज्य स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि ’स्वच्छता वह गहना है जिसके बिना पृथ्वी का सारा श्रृंगार अधूरा है। स्वच्छता को जन आंदोलन के साथ मन आंदोलन भी बनाना होगा तभी हम ऐतिहासिक और अप्रत्याशित बदलाव ला सकते है। स्वच्छता ही सेवा है एवं स्वच्छता ही हमारा संस्कार बने।’

विश्व पटल पर योग नगरी के रूप में स्थापित ऋषिकेश में लक्ष्मण झूला से राम झूला तक सफाई अभियान हेतु भजे अपने संदेश में उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत जी ने कहा, ’माँ गंगा और हिमालय से समृद्ध उत्तराखण्ड राज्य का पूरे विश्व में आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक महत्व है। माँ गंगा आस्था के केन्द्र के साथ भारत की 40 प्रतिशत आबादी के जीवनयापन का स्रोत भी है। माननीय प्रधानमंत्री जी, पूज्य स्वामी जी एवं पूरी टीम द्वारा गंगा को निर्मल करने का यह अद्वितिय प्रयास अनुकरणीय एवं सराहनीय है।’ गंगा नमामि के निदेशक श्री राघव लंगर जी ने कहा कि ’गंगा भारत की धरोहर है। गंगा की निर्मलता आध्यात्म के साथ आर्थिक दृष्टिकोण से भी नितांत आवश्यक है। प्रधाममंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के स्वच्छता मिशन 2019 को आज गंगा के तट पर जन आन्दोलन के प्रयासों से पूर्ण होते देख रहा हूँ निश्चित ही यह प्रयास स्वच्छता की ओर हमारा ठोस कदम होगा।’ स्वच्छता अभियान के समापन अवसर पर परमार्थ निकेतन माँ गंगा के तट पर पूज्य स्वामी जी एवं सभी अतिथियों के पावन सानिध्य में वाटर ब्लेसिंग सेरेमनी सम्पन्न हुई।

Recommended Posts
Contact Us

We're not around right now. But you can send us an email and we'll get back to you, asap.

Start typing and press Enter to search