त्याग – अहंकार के चक्रव्यूह से निकलने का मार्ग

त्याग – अहंकार के चक्रव्यूह से निकलने का मार्ग त्याग का अर्थ भावचित्त को अहं के चक्रव्यूह में उलझाना नहीं है। महर्षि महेश योगी प्रणीत ध्यान पद्धति भावातीत चेतना में योगस्थः कुरू कर्माणि [...]

Read More

मनुष्य का जीवन सूखे पेड़ की तरह कर देता है अहंकार : दादी जानकी, ब्रह्माकुमारीज

मनुष्य के जीवन में अच्छे और बुरे दो प्रकार के संस्कार होते हैं। परन्तु बुरे संस्कारों में कुछ ऐसे संस्कार होते हैं, जो सर्वाधिक नुकसानकारक होते हैं। जिसका अनुमान खुद जिसके ऊपर होता है, उसे भी [...]

Read More